Prem Kahani


Story Section No.4

Love Story, Prem Kahani, Suraj Pacholi, Kaira Advani,
Story-of-Prem-Kahani

    समीर ने साहिल के घर की डोर बेल बजाई, साहिल की माँ घर पर अकेली थी उसने आकार दरवाजा खोला समीर को लड़की के साथ देख कर पहले चौक गई तब समीर ने अपने अंदाज़ में पायल से चोरी चुपके इशारा किया, समीर के इशारे को माँ समझ गई. साहिल की माँ पायल को देख बहोत खुश हो गई उन्हें पायल बहोत पसंद आई. बड़े ही प्यार से अपनी बहु को घर में बुलाकर बिठाया फिर फ़ौरन चाय नाश्ते का इन्तेजाम कर दिया.
    कुछ देर तक प्यार समीर और साहिल की माँ यह तीनो एक साथ बैठकर बातें कर रहे थे. कुछ वक़्त गुज़र ने के बाद साहिल अपने घर पर आया घर में आते ही अपनी माँ और पायल से कहा.
साहिल :- (माँ सोफे पर बैठी थी पायल के सामने और साहिल ने पीछे से अपनी माँ के गले लग कर) मेरी प्यारी माँ मेरी अच्छी माँ i-lOVE-you माँ.
साहिल की माँ :- (ख़ुशी की मुस्कुराहट से) हां बस बस बहोत हो गया मस्का मारना और तेरी यह झूटी महोबत दिखाना.
साहिल :- तू खुश तो हैं ना माँ और कैसी लगी.
साहिल की माँ :- आज मै तेरी वजह से बहोत खुश हूँ और मेरी बहु मुझे बहोत पसंद आई.
    साहिल को इस तरह से समीर की माँ के गले लगते हुवे और उनकी बातें सुनकर पायल के समझ में कुछ नहीं आ रहा था. वह बहोत परेशान हो गई क्यों के साहिल समीर की माँ को माँ क्यों कहे रहा था और यह क्या नई बात हो रही थी बहु की, कौन हैं और किसे कहे रही हैं, यह बात सोच कर पायल की हवा गुल हो गई, वह अपने मन ही मन में बहोत डर गई थी.
साहिल :- मुझे पता था तू किसी के कहने से पहले ही इसे पहेचान लेगी और वैसे भी यह समीर मेरा दोस्त हैं लेकिन तेरा भेजा हुवा चमचा हैं मेरी हर बात तुझे मेरे पीछे बताता हैं. क्यों सही कहा ना मैने समीर.
समीर :- J हां बच्चू तो तुझे पहले से ही पता था के मैने माँ को सब कुछ बताया हैं.
साहिल की माँ :- अरे यह सब बातें छोड़ो पहले पायल को सारी बातें समझाओ के वह समीर के घर नहीं बलके साहिल के घर में आई हुवी हैं और अपनी होने वाली सास से बातें करती बैठी हैं.
    साहिल की माँ की यह बात सुनते ही पायल और ज्यादा घबरा गई मारे डर के उसके पसीने छुट गए.
साहिल :- (हस्ते हुवे) हाँ माँ देख ना कितना डर गई हैं, अब दिखा तेरा गुस्सा, कॉलेज में तो बहोत गुस्सा दिखाती थी. चल माँ मै इसे छोड़ आता हूँ.
    साहिल और पायल घर से निकले, पायल घर से निकल ते वक़्त माँ से कहा अच्छा आंटी तो मै चलती हूँ तब साहिल की माँ से उसे गले से लगाया और बहार गेट तक साहिल और पायल को छोड़ने आई. साहिल ने पायल को अपनी बाइक पर बिठा कर उसके घर लेजा रहा था. तब उसकी बाइक पर बैठे बैठे दोनों में बातें हो रही थी.
Love Story, Prem Kahani, Suraj Pacholi, Kaira Advani,
Story-of-Prem-Kahani

पायल :- (गुस्से से साहिल की पिट पर मर कर कहा) पहले नहीं कहे सकते थे के आज हम तुम्हारे घर जाने वाले हैं माँ से मिलने के लिए. कहे दिया होता तो मै अच्छा ड्रेस पहेनकर थोडा बहोत मेकप कर के आती थी.
साहिल :- (हस्ते हुवे) अगर तुम्हे मै बता कर मेरे घर ले जाता तो तुम सहमी सहमी रहती थी और आज जो सरप्राइज मैने तुम्हे दिया वह नहीं दे सकता था. सच कहेना आज तुम खुश होई की नहीं.
पायल :- (खुसी की मुस्कुराहट से साहिल के गले लगते हुवे) बहोत बहोत खुश हों तुम जितने अच्छे हो माँ उससे भी कई गुनना अच्छी हैं उन से मिलकर मुझे बहोत ख़ुशी हुई.
    इस तरह इस कुछ महीने गुज़र गए अगले हफ्ते से एग्जाम शुरू होने वाले थे. कॉलेज ख़त्म होने के बाद यह सारे बातें करते कॉलेज की कैंटीन में बैठे थे. साहिल पायल और उसके दोस्तों ने आज रात फिल्म देखने का प्लान तय किया. इन की बातें ख़त्म होने के बाद साहिल ने पायल को उसके घर झोड़कर अपने घर जा रहा था. रास्ते में कुछ राजनीती करने वाले चार पांच लोगों ने रास्ता रोको आंदोलन कर रहे थे. रास्ते पर आने जाने वाली सारी गाडियों को वह रुका रहे थे, साहिल पिछेसे किसी तरह अपनी बाइक को आगे चलाते हुवे लाया और साहिल ने बिना उनकी कोई बात सुने उनमें से एक आदमी के पैर पर से अपनी बाइक चलाई यह देख उसके दुसरे साथियों ने साहिल की बाइक की चाबी चलती गाड़ी में किसी तरह निकाल लिया. साहिल की गाड़ी बंद हो गई साहिल ने अपनी चारों तरफ देखा के उसका कोई दोस्त या जान पहेचान वाला कोई तो नहीं हैं ना यंहा पर, वंहा पर जितने खड़े हुवे थे उन में से एक भी साहिल के पहेचान वाला नहीं था. तब साहिल ने उन सब को इतना पिटा जितना उन्हों ने अब-तक अपनी पूरी जिंदगी में कभी भी किसी का मार नहीं खाया था और सब को सिर्फ चड्डी पर घुटनों पर बिठाकर उनसे कहा.
साहिल :- सालो तुम्हारी मांगे सरकार नहीं पूरी कर रही हैं तो हमें क्यों तकलीफ दे रहे हो, तुम्हे बंद ही करना हैं तो तहेसिलदार, कलेक्टर इन के काम काच बंद करो उनके ऑफिस जाकर, ना के करीब जनता को इस तरह से परेशान करना. मेरी बात याद रहेगी ना..... अगर फिर दोबारा ऐसा किया तो फिर मुझ से बुरा कोई नहीं.
वह सब कहते हैं :- नहीं. नहीं. नहीं भाई आज के बाद हम यह काम करना ही छोड़ देंगे.
    उनके यह बात सुनते ही साहिल ने सब को जाने को कहा और वह भी खुद वंहा से चला गया. वंहा पर एक लड़की खड़ी यह सब कुछ होता देख रही थी. साहिल को देख वह उस पर फ़िदा हो गई सब जब इधर उधर जा रहे थे तब वह साहिल को मिलने आ रही थी लेकिन साहिल भीड़ में से कब अपनी बाइक पर वंहा से चला गया उसे नज़र ही नहीं आया. उस लड़की की ख्वाहिश थी साहिल से मिलने की लेकिन वह पूरी नहीं होसकी.
Love Story, Prem Kahani, Suraj Pacholi, Kaira Advani,
Story-of-Prem-Kahani

वह लड़की कौन थी, कहां रहेती थी, क्या करती थी, कौनसे कॉलेज में किस क्लास में पढ़ती थी, किस की बेटी थी, और उसका नाम क्या था?. यह सारी जान कारी हम अगले सेक्शन में आपको जरुर बतायेंगे.

--:: Meet In The Next Part of The Story ::--

No comments

Powered by Blogger.