Tere Naam 2 …… Radhe is Back


Story Section No. 1

https://www.google.co.in/search?client=opera&q=Tere+naam&sourceid=opera&ie=UTF-8&oe=UTF-8,,https://www.google.co.in/search?client=opera&q=suraj+pancholi&sourceid=opera&ie=UTF-8&oe=UTF-8
Story-of-Tere-Naam-2

यह कहानी है राधे और रूद्र की, राधे के बारें में आपको पहले से ही सब कुछ पता ही है. राधे और रूद्र सिक्के के एक जैसे पहलू थे, यानी राधे जैसा ही रूद्र था. रूद्र राधे की तरह दिल का बेहत साफ, नेक दिल, हर किसी की मदत करने वाला, किसी अनजान के सुख दुःख में उसका साथ देने वाला वह भी बिना किसी अपने स्वार्थ, मतलब के.
https://www.google.co.in/search?client=opera&q=Tere+naam&sourceid=opera&ie=UTF-8&oe=UTF-8,https://www.google.co.in/search?client=opera&q=suraj+pancholi&sourceid=opera&ie=UTF-8&oe=UTF-8,https://www.google.co.in/search?client=opera&q=aishwarya+rai&sourceid=opera&ie=UTF-8&oe=UTF-8
Story-of-Tere-Naam-2

रूद्र अपने माँ बाप का एक लवता बेटा था. रूद्र ने बारावी साइंस से फर्स्ट क्लास में पास की थी. रूद्र को कम्प्युटर में बहोत दिल चस्बी थी, इस लिए रूद्र ने अपनी आगे की पढाई बी.एस.सी. कम्प्युटर साइंस से पूरी करने के लिए आज जे.एन.सी. कॉलेज में एडमिशन लिया.
रूद्र बचपन से अब तक एक दम शांत स्वभाव वाला लड़का था. रूद्र ने आज-तक किसी से भी मारपिटाई नहीं की थी भले ही उसकी गलती हो या ना हो, किसी के साथ उलझा उलझी नहीं की आज तक, लेकिन आज कॉलेज का पहला दिन और पहले ही दिन रूद्र को एक लड़के ने रैगिंग करने के बहाने छेड़ दिया. फिर क्या था रूद्र अब तक जैसा लड़का था, आज से उसका अपोजिट बन गया. रूद्र ने अपनी जिंदगी की पहली फाइट इस डायलॉग से शुरू करदी.
https://www.google.co.in/search?client=opera&q=Tere+naam&sourceid=opera&ie=UTF-8&oe=UTF-8,https://www.google.co.in/search?client=opera&q=suraj+pancholi&sourceid=opera&ie=UTF-8&oe=UTF-8,https://www.google.co.in/search?client=opera&q=aishwarya+rai&sourceid=opera&ie=UTF-8&oe=UTF-8
Story-of-Tere-Naam-2

रूद्र:- मै एक शांत समंदर था तू ने मुझे छेड़ दिया, अब देख मै कैसा तूफान लाता हूं. अगर तुझमें और तेरे चमचों में हिम्मत है तो मेरे इस तूफान को रुका कर दिखाओ.
फिर क्या था रूद्र ने उन सब की ऐसी पिटाई की के रूद्र बन गया कॉलेज का डॉन. कॉलेज के सभी लड़के और लडकीयां ने रूद्र का यह रूप देख सब दंग रहे गए. रूद्र की फाइट देखने वालों में से चार लड़के रूद्र की फाइट ख़त्म होते ही रूद्र के पास आकर कहते हैं.
तुम हमें अपना दोस्त बनावोगे क्या.
https://www.google.co.in/search?client=opera&q=suraj+pancholi&sourceid=opera&ie=UTF-8&oe=UTF-8,https://www.google.co.in/search?client=opera&q=salman+khan&sourceid=opera&ie=UTF-8&oe=UTF-8,https://www.google.co.in/search?client=opera&q=Tere+naam&sourceid=opera&ie=UTF-8&oe=UTF-8
Story-of-Tere-Naam-2

रूद्र:- हां क्यों नहीं, तुम्हारे नाम क्या हैं.
वह चारों ने अपना-अपना नाम बताया.
१.पाटिल २.आसेफ ३.रोहित ४.रमेश.
रूद्र और वह चारों एक साथ रहने लगे, इन का एक ग्रुप बन गया. इन के ग्रुप का और पुरे कॉलेज का लीडर रूद्र बन गया. इन पाचों से पहले कॉलेज में सीमा नाम की एक लड़की ने एडमिशन लिया था. सीमा एक ऐसी लड़की थी जो कॉलेज के हर लड़की और लड़कों का मजाक बनाया करती थी.
पाटिल और सीमा एक ही कॉलानी में रहते थे. पाटिल का बचपन का प्यार थी सीमा, लेकिन पाटिल ने यह बात किसी से भी नहीं कही. पाटिल सीमा से प्यार करता हैं इस बात को उसने अपने दिल में दबाकर रखा यंहा तक के अपने प्यार का इज़हार और अहेसास भी सीमा को होने नहीं दिया.
कॉलेज में एडमिशन लेना और निकल कर दूसरे कॉलेज में अपना नाम डालना यह सिलसिला अभी बच्चों का चालू था. क्लासेस शुरू हो गई थी, सारे विषय के टीचर ने पढ़ना शुरू कर दिया था. रूद्र और उसके चारों दोस्त एक साथ मिलकर क्लास किया करते.
एक हफ्ता गुजर गया, रूद्र ने पहले ही दिन जो फाइट की थी उस की वजह से रूद्र से कॉलेज के सारे लड़के डर ने लगे थे और लडकियां रूद्र पर फ़िदा हो गई थी. एक दिन सीमा ने रूद्र को बकरा बना कर उस का सबके सामने, सबके साथ मिलकर रूद्र की बहोत हसी उड़ाई.
सीमा की इस हरकत से रूद्र बहोत गुस्से में आ गया, रूद्र सीमा से कहता हैं.
रूद्र :- यह घटिया मजाक मेरे साथ दोबारा किया तो सारे कॉलेज में तेरा ऐसा मजाक बनाकर रख दूंगा के तू कभी भी किसी का मजाक उड़ाने के लाइक नहीं रहोगी.
    “मै जो बोलता हूं उसे पूरा करने के लिए कुछ भी कर सकता हूं.”
    रूद्र के पास पाटिल फ़ौरन आ गया और रूद्र को किसी तरह शांत करके वंहा से बहर दूसरी तरफ ले जाकर रूद्र से बात करता है.
पाटिल :- मेरे लिए सीमा को माफ़ करदे, तू जब सीमा पर गुस्सा हो रहा था तब मै तुझे क्या बताऊ मुझ पर क्या बित रही थी. सीमा को मै बचपन से प्यार करता हूँ. सीमा को किसी ने भी बुरा भला कहा तो मुझे बहोत बुरा लगता हैं मानो जैसे मुझ पर कोई कोड़े मार रहा है. तू मुझ से यह वादा कर आइंदा सीमा को कुछ नहीं कहेगा.
रूद्र :- ठीक है लेकिन उसे भी तो बोल के वह मेरा इस तरह से सब के सामने मजाक मत किया करें.
पाटिल :- मुझे सीमा से बात करने में बहोत डर लगता हैं इस लिए तो मैंने आज तक सीमा से अपने प्यार का इज़हार नहीं किया.
रूद्र :- इस में क्या डर ने वाली बात हैं, मेरे साथ चल आज ही उससे बात करते हैं.
पाटिल :- रुकजा मेरे बाप आभी सही वक़्त नहीं हैं, जब मुझे लगेगा तब मै उसे अपनी दिल की बात बता दूंगा. मै ने आज तक अपने प्यार की बात को राज़ रखा हैं और तू भी इस बात को राज़ ही रहने दे किसी से कहेना मत.
https://www.google.co.in/search?client=opera&q=salman+khan&sourceid=opera&ie=UTF-8&oe=UTF-8,https://www.google.co.in/search?client=opera&q=Tere+naam&sourceid=opera&ie=UTF-8&oe=UTF-8,https://www.google.co.in/search?client=opera&biw=1326&bih=658&tbm=isch&sa=1&ei=wSIgXfbjOJykwgO1mLLACQ&q=suraj+pancholi+friends&oq=suraj+pancholi+friends&gs_l=img.3...41125.53398..53716...3.0..0.299.3746.0j11j7......0....1..gws-wiz-img.......35i39j0j0i8i10i30j0i24.8NEvaNZ8QuI#imgrc=SEQIjMDOMCixLM:
Story-of-Tere-Naam-2


--:: Meet In The Next Part of The Story ::--

No comments

Powered by Blogger.