Prem Kahani


Story Section No.7

Love Story, Prem Kahani, Suraj Pacholi, Kaira Advani, Disha,Patani
Story-of-Prem-Kahani
    साहिल और पायल और इनके साथ निधी इन तीनों की प्रेम कहानी में दिन गुजर ते गए और अब आ गए इनके फर्स्ट टर्म एग्जाम. निधी जिस कॉलेज में बढती थी वह कॉलेज साहिल के कॉलेज से बहोत बड़ा था. इस साल साहिल के कॉलेज के सभी बच्चों का एग्जाम के लिए निधी के कॉलेज में नंबर आया.
 एग्जाम आने की वजह से पायल ज्यादा से ज्यादा वक़्त अपनी पढाई को दे रही थी. पायल ने हर क्लास फर्स्ट क्लास से पास किया था. पायल को क्लास वन अधिकारी की नौकरी हासिल करनी थी, पायल का एम था जिसे पूरा करने के लिए वह अपनी तरफ से पूरी महेनत कर रही थी. पायल अपनी यह डिग्री भी फर्स्ट क्लास में पास होना चाहती थी इस लिए वह साहिल और निधी को टाइम नहीं दे पा रही थी.
साहिल का एम था पुलिस की नौकरी करना इस लिए वह अपनी कॉलेज की पढाई को ज्यादा वक़्त नहीं दिया करता था. पुलिस कांस्टेबल की नौकरी बारावी पास करने के बाद ही अप्लाई कर सकता था लेकिन साहिल अपनी पूरी डिग्री करने के बाद उसे पुलिस कांस्टेबल की नौकरी करना चहाता था. साहिल अपनी डिग्री पास करने के बाद जब पुलिस कांस्टेबल बन जायेगा तब वह डी.एस.पी. बन्ने की तयारी करने वाला था. कांस्टेबल की नौकरी करने के बिना भी वह डायरेक्ट डी.एस.पी. की एग्जाम देकर पुलिस बन सकता था लेकिन साहिल की इच्छा थी वह पहले पुलिस कांस्टेबल की नौकरी करेगा फिर बाद में डी.एस.पी. की एग्जाम देकर पुलिस डी.एस.पी. बनेगा. साहिल पास हो जाए इतनी ही पढाई किया करता और बाकि वक़्त में निधी और अपने दोस्तों के साथ इधर उधर फिरना और मौज मस्ती करना, फिल्म देखना यह सब किया करता था. यह सब वह एग्जाम आने से पहले भी किया करता था लेकिन तब उस के साथ दोस्तों और पायल, निधी के साथ यह सारे काम किया करता था. अब एग्जाम की वजह से पायल अपना बहोत सा वक़्त पढाई में गुजार रही थी इस लिए वह इनके साथ फ़िलहाल नहीं रहे रही थी.
Love Story, Prem Kahani, Suraj Pacholi, Kaira Advani, Disha,Patani
Story-of-Prem-Kahani

निधी एक बिंदास लड़की थी जिसे ना अपने आने वाले कल की फ़िक्र थी ना आज की, निधी का कोई एम नहीं था. जब से उसे साहिल मिला तब से वह अपनी जिंदगी का एक एम बना कर चल रही थी और उसी एम के लिए थोडा बहोत बढाई किया करती थी. निधी का एम था वह साहिल से शादी करने के बाद उनके बच्चों को उनकी बढाई में कुछ मदद कर पाऊ क्यों के साहिल और पायल यह दोनों अपनी नौकरी में वेस्त रहेंगे तब बच्चों को उसे ही देखना होगा यह छोटी सी उसकी दुनिया की छोटी से सोंच थी.
दिन भर यह तीनो भले ही एक साथ नहीं रहे लेकिन रात को ठीक 10 बजे यह फ़ोन पर बातें करते. सबसे पहले निधी पायल को फोन करती और पायल इन दोनों के फ़ोन के बिच साहिल का फ़ोन कनेक्ट करती. यानी यह तीनों कांफ्रेंस कॉल में एक दुसरे से बातें करते.
एग्जाम शुरू हो गए, निधी और पायल एक ही हॉल में उनका नंबर आया और दुसरे हॉल में साहिल और समीर का नंबर आया. दो घंटे की एग्जाम थी साहिल ने जल्दी जल्दी अपना पेपर आराम से पास हो जाए इतने मार्क का लिखकर वह पायल के हॉल में गया. एग्जाम ख़त्म होने में अभी आधा घंटा बाकि था. पायल के अभी दो सवाल बाकि थे लिखने के जिसमे से पायल को एक सवाल का जवाब नहीं आ रहा था. निधी थोडा बहोत दिल से लिखकर और थोड़ी बहोत कॉपी करके अपना पेपर पास हो जाए इतने मार्क का उसने अपना पेपर लिख डाला. पायल को जो सवाल नहीं आ रहा था उसकी सवाल के जवाब की कॉपी निधी ने पायल को लिखने के लिए दिया और पायल ने उस कॉपी की मदद से अपने पेपर का आखरी एक रहे हुवे सवाल को भी लेख डाला यानी पूरा-का-पूरा पेपर पायल ने लिख दिया. जब साहिल उस के हाल में आया तब साहिल को वंहा गर्डिंग कर रहे सर ने बहोत गुस्सा करने लगे तभी उन पर निधी बहोत गुस्सा हो गई निधी ने अपने प्रिसिपल पिता का पूरा पूरा फायेदा लेकर उस सर को ही खरी खोटी सुनादी.
    इस तरह से एग्जाम गुजर ते गए साहिल हर बार पायल से मिलने आता तब तुसरे सर उसे रोकते या कुछ कहते तब उन्हें निधी चुप करा देती. पहले पायल को साहिल को गुस्सा करने से ही रोकना पड़ता था और अब पायल को साहिल के साथ साथ निधी को भी गुस्सा या किसी से उलछ्ने से रोकना पड़ता था. निधी और पायल के बिच बहेनों से भी ज्यादा प्यार हो गया था. पायल से साहिल के साथ निधी भी डरती थी कही कुछ गलती हो गई तो पायल को बुरा लगेगा या वह गुस्सा होगी. साहिल की तरह वह भी बार बार गलती करती तब उसे पायल टोका करती और नाराज़ होने के ढोंग करती तब पायल को निधी अपनी भडंग बातों से किसी तरह पायल को मना लिया करती.
इन के एग्जाम भी ख़त्म हो गए और साल भी ख़त्म होने वाला था आज इस साल के आखरी महीने की तारिक हैं 26-12-10. साल के आखरी महीने की 31 तारिक को इन के क्लास के सभी लड़के और लड़कियों ने किसी दुसरे गांव जाकर गैदरिंग (नाच गाने का प्रोग्राम) का प्रोग्राम बनाया. सब के सब मान गए एग्जाम का इन पर बहोत टेंशन था जो अब हट गया था और कॉलेज की सही लाइफ को यह जीना चाहते थे जो हर कोई अपनी जिंदगी में यह लाइफ जीकर गुज़र ने के बाद कहेता हैं.
बहोत प्यारे दिन थे हमारे कॉलेज के वक़्त के, उस वक़्त की बहोत से मीठी प्यारी बातों की याद आज भी हमारे दिल में ताजा हैं.
तो फिर अगली सुबह यह तये हो गया के वह एक ट्रावेल्स को बुक करके उस ट्रावेल से केरल में एक बहोत ही खुबसूरत समंदर के करीब बसे गांव को जायेंगे. रात तक सब तये हो गया के कौन से शहर को जाना हैं. ट्रावेल्स को बुक करवा दिया, सबने अपने हिस्से को जो पैसे आ रहे थे वह पैसे समीर के पास जमा करवा दिए.  
अगली सुबह ट्रावेल कॉलेज के पास आ खड़ी हो गई. एक एक कर कर सरे आ गए और गाड़ी में बैठ गए. सबके आने के बाद दुसरे बच्चों ने कहा. चलो अब किस का इंतेज़ार करते ठहरे हैं.
समीर ने उनसे कहा. अभी सिर्फ साहिल आना बाकि हैं.
निधी और पायल परेशान हो रही थी के अब तक साहिल क्यों नहीं आया, उसे इतनी देर क्यों हो रही हैं, क्या वह किसी मुसीबत में पढ्गाया हैं. निधी, पायल और समीर यह तीनों ने बहोत बार साहिल को कॉल किया लेकिन साहिल ने उनका कॉल रिसीव ही नहीं किया. कुछ देर उन्हें परेशान करने के बाद साहिल ने समीर को कॉल किया.
साहिल :- तू गाड़ी में सबको बिठाकर आगे निकल बस कुछ मिनट में मै आया.
    साहिल ने जैसा कहा समीर ने वैसा किया. गाड़ी चल पड़ी सब आपस में बातें करने लगे और निधी, पायल परेशान सी थी के साहिल कब आएगा. तब एक लड़की ने गाड़ी की खिड़की में से साहिल को उसकी बाइक पर पीछे से आते हुवे देखा. उनसे देखते ही जोर से कहा.
    अरे वह देखो हिरो आ गया.
    साहिल का एक्शन, उसका एटीट्युड, उसका रुबाब, और उसका गाड़ी के सामने निधी और प्याल की खिड़की के सामने आने के बाद बाइक चलाते चलाते अपना चश्मा (सनग्लास) उतर कर कहना. यह सारी बातों पर साहिल के क्लास की सभी लड़कियों ने जोर से सिटी मारने लगी.
Love Story, Prem Kahani, Suraj Pacholi, Kaira Advani, Disha,Patani
Story-of-Prem-Kahani

साहिल :-

--:: Meet In The Next Part of The Story ::--

No comments

Powered by Blogger.